SEBI Registration No - INA000003197 Investment in stock and commodity market are subject to market risk. Please do not trade on those tips which are not provided through SMS.

Blog

budget2017

आम बजट से मार्केट को हैं बड़ी उम्मीदें, जानें क्या है एक्सपर्ट्स की राय

नोट बंदी के बाद घरेलू इकनॉमी में आई सुस्ती ने इंडस्ट्री की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। माना जा रहा है कि नोट बंदी का असर अगले वित्त वर्ष में भी देखने को मिलेगा। ऐसे में मार्केट की पूरी नजर बजट पर है। मार्केट उम्मीद लगा रहा है बजट में ऐसे कदम उठाए जाएं जिससे घरेलू इकनॉमी को सहारा मिले। जानिए.क्या है बजट को लेकर मार्केट की राय।

ग्रोथ में सुस्ती खत्म करने के लिए अहम होगा बजट
कैपिटल सिंडिकेट के मैनेजिंग पार्टनर सुब्रमण्यम पशुपति के मुताबिक अमेरिका में ट्रंप की सरकार के फैसलों ने दुनिया भर में अनिश्चितता बना दी है। वहीं ग्लोबल मार्केट में भी सुस्ती का माहौल है। ऐसे में घरेलू इकनॉमी के लिए बजट प्रस्ताव काफी अहम होंगे।घरेलू इकनॉमी में ग्रोथ की रफ्तार तेज होने से ग्लोबल मार्केट के असर को कम करने में मदद मिलेगी। उन्होने अनुमान जताया है कि सरकार नोट बंदी का असर कम करने के लिए खर्च बढ़ाने पर जोर देगी। वहीं आम लोगों की खर्च करने की क्षमता बढ़ाने भी जोर दिया जा सकता है।.

टूट सकता है मार्केट में गिरावट का ट्रेंड
कैपिटल सिंडिकेट के मैनेजिंग पार्टनर सुब्रमण्यम पशुपति के मुताबिक इस साल मार्केट में बजट के दिन गिरावट का ट्रेंड टूट सकता हैं। पशुपति ने कहा कि मार्केट में पिछले दो दिन से करेक्शन देखने को मिल रहा है दरअसल मार्केट में किसी बढ़त के बाद बड़े इवेंट से पहले प्रॉफिट बुकिंग देखने को मिलती है। उनके मुताबिक कर बड़ी उम्मीदें नहीं लगा रहा है। कुछ बातों को लेकर निवेशकों के बीच शंकाएं हैं, अगर इन पर क्लियरिटी आ जाती है तो मार्केट में बढ़त देखने को मिलेगी। वहीं बोनांजा पोर्टफोलियो के एवीपी पुनीत किनरा मानते हैं कि चुनावों के करीब आने वाले इस बजट में कड़े कदमों की संभावना नहीं हैं।

जानिए मार्केट की रहेगी किन बातों पर नजर
बजट प्रस्तावों में मार्केट किन बातों पर रखेगा नजर
क्रिस रिसर्च के सीईओ अरुण केजरीवाल के मुताबिक इस बजट में पूरी संभावना है कि सरकार ग्रोथ बढ़ाने के लिए खर्च बढ़ाने और राहत पर जोर देगी। अरुण ने कहा कि मार्केट की नजर सिर्फ इस बात पर रहेगी कि सरकार इसके लिए रकम कैसे जुटाती है।.

क्या होगा अगर बजट उम्मीदों पर खरा न उतरे
अरुण केजरीवाल के मुताबिक मार्केट बजट को लेकर ज्यादा उम्मीद नहीं लगा रहा है। हालांकि सबसे बुरी हालत में जहां टैक्स स्लैब को लेकर पॉजिटिव बदलाव नहीं होते हैं और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस के साथ एसटीटी से निगेटिव संकेत देखने को मिलते हैं तो भी मार्केट में ३ से ४ सेशन में ५ से ७ फीसदी की गिरावट देखने को मिल सकती है।.

हमारे एक्सपर्ट की राय जानने के लिए तुरंत अपना नंबर रजिस्टर करे और ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाए शेयर बाजार से